बाबा रामदेव के विचार - Baba Ramdev thoughts in Hindi





1. प्रसन्नता अंदर से आती है, ना कि बाहर से।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


2. बुढ़ापा कोई उम्र नहीं है, यह तो हमारी सोच का परिणाम है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


3.  विचारों में शुद्धीकरण ही मात्र एक नैतिकता है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


4. आरोग्य हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


5. विचारों और विश्वास  में शुद्धता व नियंत्रण ही सफलता का बाध है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


7. खाने के बाद किसी को भी सोना नहीं चाहिए क्योंकि इस से मोटापा बढ़ता है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


8. सभी बीमारियों का इलाज योग में  और अच्छी जीवनशैली में निहित है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


. 9. नकारात्मक विचार, दिमागी की विकारों के कारण है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


10.  आयुर्वेद, कला और विज्ञान का मेल है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


11. प्रेम, वासना नहीं उपासना है। वासना का उत्कर्ष , प्रेम की हत्या है ।प्रेम, समर्पण एवं विश्वास की पराकाष्ठा है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


12. हमारा जीना व दुनिया से जाना दोनों ही गौरवपूर्ण होना चाहिए।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


13. ज्ञान का अर्थ मात्र जानना नहीं, वैसा हो जाना है।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


14. बड़ा काम करने का साहस करो।- बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


15.  छोटे उद्देश्य के लिए जीना, जीवन का अपमान है। - बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


16. माल जरूर बेचता हूं लेकिन देश नहीं बेचता। - बाबा रामदेव (Baba Ramdev)


Happy Friendship Day HD Images Photos Download

हैप्पी फ्रेंडशिप डे इमेज डाउनलोड - Happy Friendship Day Images Download

फ्रेंडशिप डे इमेज फॉर वव्हाट्सप्प - Friendship Day Images for Whatsapp DP



हैप्पी फ्रेंडशिप डे एचडी इमेज - Happy Friendship Day hd Images

हैप्पी फ्रेंडशिप डे फोटो - Happy Friendship Day Photos


हैप्पी फ्रेंडशिप डे वॉलपेपर- Happy Friendship Day Wallpaper



फ्रेंडशिप डे इमेजेज कोट्स - Friendship Day Images Quotes

फ्रेंडशिप डे विशेष इमेज - Friendship Day Wishes Images


फ्रेंडशिप डे इमेज फॉर लव - Friendship Day Images for Love

फ्रेंडशिप डे पिक्चर - Friendship Day Picture




भगत सिंह के अनमोल विचार - Bhagat Singh Quotes in Hindi


भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर 1907 को लायलपुर जिले के बंगा में हुआ था,उन्हें 23 साल की उम्र में 23 मार्च 1931 को लाहौर जेल में उनके साथियों के साथ फांसी दे दी गई थी,भगत सिंह को किताबें पढ़ने का काफी शौक था |



1.जिंदगी तो सिर्फ अपने कंधों पर जी जाती है, दूसरों के कंधे पर तो सिर्फ जनाजे उठाए जाते हैं। -भगत सिंह (Bhagat Singh)

2.मेरा धर्म देश की सेवा करना है। -भगत सिंह (Bhagat Singh)

3.प्रेमी, पागल और कवि एक ही चीज से बने होते हैं -भगत सिंह (Bhagat Singh)

4.देशभक्तों को लोग पागल कहते हैं -भगत सिंह (Bhagat Singh)

5.राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है। मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल में भी आजाद है -भगत सिंह (Bhagat Singh)

6.किसी भी इंसान को मारना आसान है, परन्तु उसके विचारों को नहीं। महान साम्राज्य टूट जाते हैं, तबाह हो जाते हैं, जबकि उनके विचार बच जाते हैं -भगत सिंह (Bhagat Singh)

7.जरूरी नहीं था कि क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो। यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था - भगत सिंह (Bhagat Singh)

8.जो व्यक्ति विकास के लिए खड़ा है उसे हर एक रूढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी, उसमें अविश्वास करना होगा तथा उसे चुनौती देनी होगी। -भगत सिंह (Bhagat Singh)

9.इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है , जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे -भगत सिंह (Bhagat Singh)

10.व्यक्तियो को कुचल कर , वे विचारों को नहीं मार सकते -भगत सिंह (Bhagat Singh)

11.क़ानून की पवित्रता तभी तक बनी रह सकती है जब तक की वो लोगों की इच्छा की अभिव्यक्ति करे - भगत सिंह (Bhagat Singh)

12.क्रांति मानव जाती का एक अपरिहार्य अधिकार है। स्वतंत्रता सभी का एक कभी न ख़त्म होने वाला जन्म-सिद्ध अधिकार है। श्रम समाज का वास्तविक निर्वाहक है - भगत सिंह (Bhagat Singh)

13.निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम् लक्षण हैं। - भगत सिंह (Bhagat Singh)

14.मैं एक मानव हूँ और जो कुछ भी मानवता को प्रभावित करता है उससे मुझे मतलब है - भगत सिंह (Bhagat Singh)

15.मनुष्य केवल तभी कार्य करता है जब वह अपने ओचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है, जैसे हमने विधान सभा में बम फेंका था - भगत सिंह (Bhagat Singh)

16.निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार क्रांतिकारी सोच के 2 अहम लक्षण है -भगत सिंह (Bhagat Singh)

17.कानून की पवित्रता तभी तक बनी रह सकती है जबतक वो लोगो की इच्छा की अभिव्यक्ति करे - भगत सिंह (Bhagat Singh)

18.इन्सान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित हो जैसा की हमने विधान सभा में बम फेकने को लेकर आश्वत थे - भगत सिंह (Bhagat Singh)

19.मेरे सीने में जो भी जख्म है वो सब तो फूलो के गुच्छे है हमे तो पागल ही रहने दो हम पागल ही बनकर अच्छे है - भगत सिंह (Bhagat Singh)

20.जब आवश्यकताए महान हो तो हिंसा भी अनिवार्य हो जाता है - भगत सिंह (Bhagat Singh)

21.आत्मबल को शारीरिक बल से जोड़ा जाना चाहिए ताकि अत्याचारी दुश्मन की दया पर न रहे - भगत सिंह (Bhagat Singh)

22.जिन्दा रहना हर किसी की कुदरती ख्वाहिस है जिसे मै भी नही छिपाना चाहता लेकिन कैद होने की शर्त पर मै जिन्दा भी नही रहना चाहता -भगत सिंह (Bhagat Singh)

Good Night Images Download | Good Night HD Photo Download

गुड नाईट इमेज डाउनलोड - Good Night images download

गुड नाईट इमेज डाउनलोड - Good Night images download

गुड नाईट फोटो डाउनलोड - Good Night Photo Download

गुड नाईट फोटो डाउनलोड - Good Night Photo Download

गुड नाईट वॉलपेपर डाउनलोड - Good Night Wallpaper Download


गुड नाईट वॉलपेपर डाउनलोड - Good Night Wallpaper Download

गुड नाईट पिछ - Good Night Pic


गुड नाईट पिछ - Good Night Pic

गुड नाईट लव इमेज - Good Night Images with Love

गुड नाईट लव इमेज - Good Night Images with Love

गुड नाईट इमेज इन हिंदी - Good Night Images in Hindi

Good Night Images in Hindi -गुड नाईट इमेज इन हिंदी

गुड नाईट इमेज hd - Good Night Image HD

गुड नाईट इमेज hd - Good Night Image HD

गुड नाईट इमेज विथ शायरी-  Good Night Image with Shayari -

Good Night Image with Shayari - गुड नाईट इमेज विथ शायरी

गुड नाईट शायरी इमेज डाउनलोड - Good Night Image Shayari Download

गुड नाईट शायरी इमेज डाउनलोड - Good Night Image Shayari Download

गुड नाईट इमेज,गुड नाईट फोटो,गुड नाईट वॉलपेपर,गुड नाईट पिछ,गुड नाईट लव इमेज,गुड नाईट इमेज इन हिंदी,गुड नाईट इमेज hd,गुड नाईट इमेज विथ शायरी,गुड नाईट शायरी इमेज डाउनलोड,Good Night images,Good Night Photo, good night wallpaper,good night images in hindi




रवीन्द्रनाथ टैगोर जी के अनमोल वचन - Rabindranath Tagore Quotes in Hindi

Rabindranath Tagore in Hindi: रवीन्द्रनाथ टैगोर जी का जन्म 7 मई 1861 को कोलकाता में हुआ था। रवीन्द्रनाथ टैगोर जी के पिता का नाम देवेंद्रनाथ टैगोर और माता का नाम शारदा देवी था। रवीन्द्रनाथ टैगोर गुरुदेव के नाम से लोकप्रिय थे। भारत आकर गुरुदेव ने फिर से लिखने का काम शुरू किया। आज हम आपको रवीन्द्रनाथ टैगोर जी के अनमोल विचार के बारे में बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप अपना जीवन सफल कर सकते हैं |


Rabindranath Tagore Quotes


1.चेहरे बहुत होते हैं पर सच्चाई सिर्फ एक होती है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

2. आपकी मूर्ति जब टूट कर धूल में मिल जाती है तो वो इस को साबित करती है कि इश्वर की धूल आपकी मूर्ती से महान है - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

3.आह, तूने मेरे संगीत के अंतहीन जाल में मेरे दिल को बंदी बना दिया, मेरे गुरु! - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

4.यदि आप इसलिए रोते हैं कि कोई सूरज आपके जीवन से बाहर चला गया है, तो आपके आँसू आपको सितारों को देखने से भी रोकेंगे। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

5.मुझे खतरों से बचने की प्रार्थना नहीं करनी चाहिए, बल्कि उनका सामना करने में निडर होना चाहिए। मुझे अपने दर्द को दूर करने के लिए नहीं, बल्कि दिल को जीतने के लिए भीख माँगने दो। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

6.आप फूलों को एकत्रित करने के लिए रुको मत। बढ़ते चलो, आगे बढ़ते चलो, तुम्हारी राह में निरंतर फूल खिलते रहेंगे। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

7.आप किनारे खड़े होकर पानी को देखते रहने से समुद्र पार नहीं कर सकते। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

8.मैं सो गया और सपना देखा तो  जीवन आनंदमय था। मैं जागा और देखा कि जीवन सेवा है। मैंने अभिनय किया और देखा, सेवा खुशी थी। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

9.आपको किसी भी चीज़ को प्राप्त करने के लिए पूरी कीमत चुकानी पड़ती है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

10.इंसान की रचनात्मक आत्मा की यथार्थ के पुकार के प्रति प्रतिक्रिया ही कला है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

11.विश्वास उस पक्षी की तरह है जो प्रकाश को महसूस करता है और जब शांत अंधेरा होता है तो गाता है।- रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

12.हम महानता के करीब तभी आ सकते हैं जब हम विनम्रता में महान हों। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

13.यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाज़े बंद कर देंगे तो सत्य बाहर रह जायेगा। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

14. हम इस दुनिया को तभी जी पायेंगे  जब हम इस दुनिया से प्रेम करें। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)
15.प्रेम रुपी उपहार दिया नहीं जा सकता, यह स्वीकार किए जाने की प्रतीक्षा करता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

16. बर्तन में रखा पानी हमेशा चमकता है जबकि समुद्र का पानी हमेशा गहरे रंग का होता है। लघु सत्य के शब्द केवल स्पष्ठ होते हैं, जबकि महान सत्य हमेशा मौन रहता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

17.पृथ्वी द्वारा स्वर्ग से बोलने का अथक प्रयास हैं ये पेड़। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

18.तितली महीने नहीं बल्कि क्षणों की गिनती करती है और उसके पास पर्याप्त समय होता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

19.ऊँचे स्तर पर पहुँचें, क्योंकि तारे आपके भीतर छिपे हैं। हर सपने के लिए, लक्ष्य से पहले सपने देखें। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

20.जब में अपने आप पर हँसता हूँ तो जो मेरे अंदर बोझ है वो कम हो जाता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

21.जो व्यक्ति अधिकतर चीज़ो पर अपना स्वामित्व रखता है, उसके पास डरने की कई वजह होती हैं। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

22.संगीत द्वारा हम आत्माओं के बीच के अंतर को भर देते हैं। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

23. सर्वश्रेठ शिक्षा वो है जो सिर्फ हमें जानकारी ही नहीं देती बल्कि हमारे पूरे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सद्भाव में लाती है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

24.आपका दिमाग चाकू और ब्लेड की तरह है, यह आपको नुकसान पंहुचा सकता है यदि आप इसका प्रयोग सही नहीं करेंगे। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

25.चंद्रमा अपना प्रकाश संपूर्ण आकाश में फैलाता है परंतु अपना कलंक अपने पास ही रखता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

26.अकेले फूल को कई काँटों से ईर्ष्या करने की जरूरत नहीं होती। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

27.सौंदर्य नरक में भी है, पर वहाँ  रहने वाले उसकी पहचान नहीं कर पाते यही तो उनकी सबसे बड़ी सजा है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

28.प्रेम अधिकार का दावा नहीं करता , बल्कि स्वतंत्रता देता है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

29. मित्रता की गहराई परिचय की लम्बाई पर निर्भर नहीं करती। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

30. जो प्रेम करता हैं उसे ही दंड देने का अधिकार होना चाहियें। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

31.आयु सोचती है, जवानी करती है। - रवीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)

महाराणा प्रताप के अनमोल विचार - Maharana Pratap Quotes in Hindi



1.मातृभूमि और अपने माँ मे तुलना करना और अन्तर समझना निर्बल और मुर्खो का काम है| - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

2.सम्मानहीन मनुष्य एक मृत व्यक्ति के समान होता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)



3.ये संसार कर्मवीरो की ही सुनता है। अतः अपने कर्म के मार्ग पर अडिग और प्रशस्त रहो - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

4.समय इतना बलवान होता है, कि एक राजा को भी घास की रोटी खिला सकता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

5.समय एक ताकतवर और साहसी को ही अपनी विरासत देता है, अतः अपने रास्ते पर अडिग रहो - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

6.हल्दीघाटी के युध्द ने मेरा सर्वस्व छीन लिया हो। पर मेरी गौरव और शान और बढा दिया - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

7.जो सुख मे अतिप्रसन्न और विपत्ति मे डर के झुक जाते है, उन्हे ना सफलता मिलती है और न ही इतिहास मे जगह - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

8.अपने अच्छे समय मे अपने कर्म से इतने विश्वास पात्र बना लो कि बुरा वक्त आने पर वो उसे भी अच्छा बना दे। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

9.जो अत्यंत विकट परिस्तिथत मे भी झुक कर हार नही मानते। वो हार कर भी जीते होते है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

10.अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगा । - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

11.शत्रु सफल और शौर्यवान व्यक्ति के ही होते है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

12.एक शासक का पहला कर्त्यव अपने राज्य का गौरव और सम्मान बचाने का होता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

13.तब तक परिश्रम करते रहो जब तक तुम्हे तुम्हारी मंजिल न मिल जाये - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

14.मनुष्य अपने कठीन परिश्रम और कष्टो से ही अपने नाम को अमर कर सकता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap )

15.जो अपने और अपने परिवार के अलावा अपने राष्ट्र के बारे मे सोचे वही सच्चा नागरिक होता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

16.अगर इरादा नेक और मजबूत है। तो मनुष्य कि पराजय नही विजय होती है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

17.नित्य, अपने लक्ष्य,परिश्रम,और आत्मशक्ति को याद करने पर सफलता का मार्ग सरल हो जाता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

18.गौरव,मान- मर्यादा और आत्मसम्मान से बढ कर कीमती जीवन भी नही समझना चाहिए। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

19.अन्याय, अधर्म,आदि का विनाश करना पुरे मानव जाति का कतर्व्य है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)

20.अपने कतर्व्य,और पुरे सृष्टि के कल्याण के लिए प्रयत्नरत मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है। - महाराणा प्रताप (Maharana Pratap)